Film review: जीवित रहने का असली संघर्ष है: ‘द रेवेनेंट’

0
690

फिल्म का नाम: द रेवनेंट
डायरेक्टर: अलेजैंड्रो गोंजालेज इनारिटू
स्टार कास्ट: लियोनार्डो डिकैप्रियो , टॉम हार्डी , डोमनेल ग्लीसन , विल पॉटर
अवधि: 2 घंटा 31 मिनट
सर्टिफिकेट: A

रेटिंग: 4.5 स्टार

‘द रेवेनेंट’ फिल्म भारत में रिलीज होने से पहले ही ‘गोल्डन ग्लोब’ और ‘बाफ्टा’ जैसे फेमस अवॉर्ड जीत चुकी है, फिल्म के डायरेक्टर अलेजैंड्रो गोंजालेज इनारिटू ने इसके पहले अवॉर्ड विनिंग फिल्म ‘बर्डमैन’ बनाई थी. फिल्म में लि‍योनार्डो डिकैप्रियो और टॉम हार्डी जैसे उम्दा एक्टर्स की मौजूदगी भी है. माईकल पंके की ‘द रेवनेंट’ नामक नावेल पर आधारित यह फिल्म क्या पैसा वसूल है? आइये जानते हैं:

‘द रेवनेंट’ कहानी है ह्यू ग्लास (लियोनार्डो डिकैप्रियो ) की, जो अपनी पत्नी और बेटे के साथ रहता है लेकिन किन्ही कारणों से उसके घर को आग लगा दी जाती है और उसकी पत्नी की मौत हो जाती है. अब ह्यू अपने बेटे हॉक और अपनी सेना की टुकड़ी के साथ जीवन और मौत के बीच संघर्ष करते हुए आगे बढ़ता है. इसी बीच ह्यू का सामना एक भालू से होता है. ह्यू उस भालू को मार पाने में तो सक्षम रहता है लेकिन इस दौरान भालू के अटैक के कारण उसकी हालत बहुत ही खराब हो जाती है, जिसकी वजह से ह्यू अब चल फिर और बोल पाने तक में असमर्थ हो जाता है. इसी बीच टुकड़ी के जवान ह्यू को इसी हालत में बर्फीले तूफान के बीच छोड़ कर चले जाते हैं और इस निर्णय के पीछे टुकड़ी के सदस्य जॉन (टॉम हार्डी) का बड़ा हाथ होता है जो ह्यू के बेटे हॉक को मार देता है. धीरे-धीरे इस बर्फीले प्रदेश में अकेले बेहोश पड़े ह्यू की हालत खराब होती जाती है, कभी घने जंगल में तो कभी बर्फीले तूफान में उसे काफी कठिनाइयां झेलनी पड़ती है. और आखिरकार ह्यू आखिरी सांस तक जीने की कोशिश करता है और अपने बेटे के कातिल से बदला लेने का भरसक प्रयास करता है.

फिल्म का स्क्रीनप्ले बहुत ही उम्दा है और जिस तरह से कहानी को दर्शाया गया है वो लाजवाब है. जंगल, नदियां, बर्फीले पहाड़ सभी चीजों को बेहतरीन ढंग से स्क्रीन पर पेश किया गया है. आदिवासियों का रहन सहन, मृत लोगों का पानी में अंतिम संस्कार, बन्दूक की सफाई, स्नो फॉल, आग जलाना, इत्यादि बातों का बहुत ही बारीकी के साथ ख्याल रखा गया है. स्क्रीनप्ले बहुत शानदार है. इसके अलावा कहानी में कई भावुक पल भी आते हैं, जैसे जब मां की कही हुई बात बेटा, अपने असहाय पिता से कहता है कि‍ ‘कितनी भी तेज हवा क्यों ना हो, मजबूत पेड़ को वो हरा नहीं सकती.’ वहीं क्लाइमेक्स से पहले जब ह्यू से ऑफिसर पूछता है कि‍ ‘तुम अपने ऑफिसर दोस्त को मारोगे?’ तो ह्यू जवाब देता है, ‘नहीं, एक पिता अपने पुत्र को मारने वाले इंसान को खत्म करेगा.’ रियल लोकेशन पर की गई फिल्म की शूटिंग भी बधाई का पात्र है, जहां लगभग 7 महीने तक इस पूरी टीम ने शूटिंग की थी. फिल्म की शूटिंग कनाडा, यूनाइटेड स्टेट्स और अर्जेंटीना में की गई है.

अगर अभिनय की बात करें तो लियोनार्डो डिकैप्रियो ने अपने करियर का सबसे उम्दा और सर्वोपरि अभिनय किया है. लि‍यो ने पत्नी की मौत के बाद बेटे के साथ भावुक पल, फिर बेटे की मौत पर असहाय पिता और उसके बाद बेटे की मौत का बदला लेने को आतुर बहादुर पिता का अभिनय बखूबी निभाया है. वहीं एक हीरो के सामने दमदार विलेन का किरदार टॉम हार्डी ने जबरदस्त अंदाज में निभाया है, टॉम ने ऐसा अभिनय किया है जिसे देखकर आपको सच में उससे घृणा होने लगती है. साथ ही बाकी किरदारों जैसे डोमनेल ग्लीसन, विल पॉटर ने भी गजब का काम किया है.

फिल्म का बैकग्राउंड संगीत भी समय-समय पर आपको भावुक और ऊर्जा से भर देता है.

856 Total Views: 2 Today Views:

LEAVE A REPLY